Bihar News: सहारा नशा मुक्ति सह पुनर्वास केंद्र मे अभ्यर्थियों का हुआ साक्षात्कार, 22 लोग नौकरी के लिए चयनित

 
Bihar News: सहारा नशा मुक्ति सह पुनर्वास केंद्र मे अभ्यर्थियों का हुआ साक्षात्कार, 22 लोग नौकरी के लिए चयनित

Bihar News: मुजफ्फरपुर मे स्थित संस्था महिला शिशु केंद्र द्वारा संचालित मधुबनी के सकरी मे आदर्श थाना सकरी के निकट स्थित सहारा नशा मुक्ति सह पुनर्वास केंद्र मे सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय,भारत सरकार,नई दिल्ली द्वारा अनुदानित परियोजना के तहत कई पदों के लिए अभ्यर्थियों का सफलतापूवर्क साक्षात्कार कर लिया गया। जिसमें 22लोगो को नौकरी के लिए चयनित किया गया।

आपको बता दे की संस्था द्वारा कुल 13पदों के लिए 22लोगो को चयनित करने के लिए समाचारपत्र एवं सोशल मीडिया के द्वारा रिक्तियों के लिए विज्ञापन निकाली गई थी।


विज्ञापन मे अभ्यर्थियों से इन पदों के जरूरी कागजात के साथ आवेदन आमंत्रित किए गये थे!इन पदों के तलिए करीबन 50से अधिक अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था!साक्षात्कार पेनलिस्ट मे मधुबनी एडीएसएस आशीष आनंद अमन,सेक्रेटरी महिला शिशु केंद्र मुजफ्फपुर के फिरोज अहमद खान,एसएलसीए कॉर्डिनेटर पटना के मनोज सिंह एवं सेक्रेटरी बिहार विकास परिषद दरभंगा के मोहम्मद फिरोज खान शामिल थे।


प्रेस को संबोधित करते हूए महिला शिशु केंद्र के सचिव फिरोज अहमद खां ने बताया की संस्था मे कुल 13पदों के लिए 22रिक्तियां पर बहाली के लिए समाचारपत्र एवं सोशल मीडिया के माध्यम से योग्य अभ्यर्थियों से आवेदन आमंत्रित किए गये थे! उन्होंने बताया की एक प्रबंधक सह प्रभारी,दो परियोजना समन्वयक,दो प्रशिक्षक सह पर्यवेक्षक,दो आउट रिच वर्कर,एक पूर्णकालिक डॉक्टर,दो काउंसलर सोशल वर्कर,दो नर्स,दो वार्ड बॉय,दो लेखपाल,एक योग थेरिपिष्ट,एक रसोइया,दो चौकीदार एवं दो सफाई कर्मी के पदों के लिए बहाली होनी थी!जिसके लिए साक्षात्कार पेनलिस्ट के द्वारा सफलतापूर्वक अभ्यर्थियों से इंटरव्यू की प्रकिया समाप्त हो गई।


उन्होंने बताया की महिला शिशु केंद्र के कार्यकारिणी समिति की महत्वपूर्ण बैठक मे सहारा नशा मुक्ति सह पुर्नवास केंद्र,सकरी हेतु 22 स्टाफो के चयन प्रक्रिया एवं चयनित उम्मीदवारों की स्वीकृति प्रदान की गई!उन्होंने बताया की चयनित उम्मीदवारो को एक से दो दिन मे नियुक्त कर लिया जायेगा।


गौरतलब हैं की संस्था कई महीनो से नशा मुक्ति के क्षेत्र मे नशा से पीड़ित लोगो के बीच जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन,उनका निःशुल्क काउंसलिंग एवं ईलाज करने का कार्य कर रहीं हैं!इसके साथ ही मरीजो के लिए पुनर्वास केंद्र की भी व्यवस्था की गई!जिसमें कई मरीज लाभान्वित हूए हैं!