Raksha Bandhan 2023: जानिए कब है रक्षाबंधन? भद्रा के साए के बीच इस समय बांधें भाई को राखी...

Raksha Bandhan 2023: Know when is Raksha Bandhan? Tie rakhi to brother at this time amidst the shadow of Bhadra...
 
Raksha Bandhan 2023: जानिए कब है रक्षाबंधन? भद्रा के साए के बीच इस समय बांधें भाई को राखी...

Raksha Bandhan 2023: हिंदू धर्म में रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) के त्योहार का विशेष महत्व है। यह त्योहार भाई-बहन के अटूट प्यार का प्रतीक माना जाता है। रक्षाबंधन हर साल सावन महीने में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है।

इस दिन बहनें अपने भाइयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती हैं और उनकी लंबी उम्र के लिए ईश्वर से प्रार्थना करती हैं। वहीं भाई अपनी बहनों को जिंदगीभर रक्षा का वचन देते हैं। 

राखी सिर्फ रेशम का धागा नहीं होता बल्कि एक भाई का बहन के लिए उसकी रक्षा का वचन होता है। इस साल रक्षाबंधन कब मनाया जाएगा और राखी बांधने का शुभ महूर्त कब है।

आखिर कब मनाया जाएगा रक्षाबंधन का त्योहार?


हिंदू पंचांग के मुताबिक रक्षाबंधन का त्योहार इस साल 30 अगस्त को मनाया जाएगा। लेकिन रक्षाबंधन पर भद्रा का साया होने की वजह से लोगों में राखी बांधने को लेकर कंफ्यूजन की स्थिति है। भद्रा में राखी बांधना शुभ नहीं माना जाता है।

भद्रा 30 अगस्त को सुबह 10 बजकर 59 मिनट से शुरू होकर रात 9 बजकर 2 मिनट तक रहेगी। इस दौरान रक्षाबंधन का पर्व मनाना निषेध है। इसीलिए इस नक्षत्र के खत्म होने के बाद ही राखी बांधना शुभ होगा।

क्या है राखी बांधने का शुभ मुहूर्त?


इस साल 30 अगस्त को सुबह 10:59 मिनट से पूर्णिमा तिथि लगेगी और 31 अगस्त को सुबह 7:5 मिनट तक रहेगी। 31 अगस्त की सुबह भद्रा का साया भी खत्म हो चुका होगा। इसीलिए राखी बांधने के लिए यह समय अच्छा रहेगा। भद्रा लगने की वजह से 30 अगस्त को सुबह राखी नहीं बांधी जा सकेगी।

वहीं अगर 30 अगस्त को राखी बांधना चाहते हैं तो रात को 9 बजकर 1 मिनट के बाद शुभ मुहूर्त शुरू होगा। इस समय त्योहार मनाया जा सकता है।

हालांकि राखी 30 और 31 अगस्त यानी कि दोनों दिन बांधी जा सकती है। लेकिन ध्यान रहे कि 31 अगस्त को राखी बांधने का शुभ मुहूर्त सुबह 7 बजकर 5 मिनट तक ही होगा।

किस विधि से भाई को बांधें राखी


रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) के दिन भाई और बहन दोनों को व्रत रखना चाहिए। राखी बांधने से पहले बहनें पूजा की थाली तैयार करें जिसमें रोली, चावल, आरती, मिठाई आदि रखे।

भाई की कलाई पर राखी बांधने से पहले बहनें उसके माथे पर रोली और चावल से तिलक लगाए और फिर दाहिने हाथ में राखी बांधें, मिठाई खिलाएं और उसकी आरती उतारकर लंबी उम्र और उन्नति की कामना करें। 

बड़े भाई को राखी बांध रही हैं तो पैर छूकर उसका आशीर्वाद लें। साथ ही भाई को राखी के बदले बहन को गिफ्ट देना चाहिए।

यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है।