Old Pension Scheme: पुरानी पेंशन लागू करने का सरकार बना रही प्लान, 31 अगस्त तक है समय

Old Pension Scheme Update: केंद्र सरकार ने इस समय कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना चुनने का मौका दिया है. आपके पास में 31 अगस्त तक का समय है. आप 31 अगस्त 2023 तक ओल्ड पेंशन स्कीम को चुन सकते हैं.

 
Old Pension Scheme: पुरानी पेंशन लागू करने का सरकार बना रही प्लान, 31 अगस्त तक है समय

Old Pension Scheme Update: पुरानी पेंशन (Old Pension) को लेकर एक अच्छी खबर सामने आ रही है. अगर आप भी सरकारी कर्मचारी है और पुरानी पेंशन का फायदा (Old Pension Scheme) लेना चाहते हैं तो आपके लिए अच्छी खबर आ गई है. इस समय पर देश के कई राज्यों में ओल्ड पेंशन स्कीम (OPS) लागू हो चुकी है.

वहीं, कई राज्यों में इसको लागू करने की बहस छिड़ी हुई है. बता दें जिन भी राज्यों में न्यू पेंशन स्कीम लागू है वहां पर इसको रद्द करके OPS लागू करने की मांग की जा रही है. 

31 अगस्त तक है समय

आपको बता दें केंद्र सरकार ने इस समय कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना चुनने का मौका दिया है. आपके पास में 31 अगस्त तक का समय है. आप 31 अगस्त 2023 तक ओल्ड पेंशन स्कीम को चुन सकते हैं.

सरकार ने बताया है कि जो भी योग्य कर्मचारी 31 अगस्त तक ओल्ड पेंशन योजना (OPS) के ऑप्शन को सलेक्ट नहीं करते हैं तो उनको नई पेंशन योजना (New Pension Yojana) में डाल दिया जाएगा. 

कई राज्यों में लागू हो चुकी है OPS


बता दें छत्तीसगढ़ में भी राज्य सरकार इसको लागू कर चुके है. इसके अलावा राजस्थान, पंजाब समेत कई राज्यों में लागू हो चुकी है. केंद्र सरकार ने साल 2004 में पुरानी पेशन योजना को खत्म करके उसके बदले राष्ट्रीय पेंशन योजना (National Pension System) शुरु किया था.


पुरानी पेंशन योजना के फायदे क्या हैं?

पुरानी पेंशन योजना के फायदे की बात की जाए तो इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह आखिरी ड्रॉन सैलरी के आधार पर बनती है. इसके अलावा इसमें महंगाई दर बढ़ने के साथ ही डीए में भी इजाफा होता है. जब सरकार नया वेतन आयोग लागू करती है तो भी इससे पेंशन में इजाफा होता है.

क्या है नई पेंशन योजना की समस्या?

अधिकारियों का मानना है कि सरकार एनपीएस में इस तरह से बदलाव करे, जिससे रिटायरमेंट के समय में कर्मचारियों को एकमुश्त राशि के रूप में मोटा पैसा यानी करीब 41.7 फीसदी का योगदान वापस मिल जाएगा.  अधिकारी ने कहा कि यह मॉडल ओपीएस के ठीक उल्टा है और यही इसकी एकमात्र समस्या है.

OPS में मिलती है ज्यादा पेंशन


आपको बता दें नई और पुरानी पेंशन योजना में बहुत ही ज्यादा अंतर है, जिसकी वजह से कर्मचारी और पेंशनर्स ओल्ड पेंशन स्कीम को बहाल करने की मांग कर रहे हैं. OPS में रिटायरमेंट के समय कर्मचारियों को सैलरी की आधी राशि पेंशन के रूप में मिलती है.

वहीं, नई पेंशन स्कीम में कर्मचारी की बेसिक सैलरी+डीए का 10 फीसद हिस्सा कटता है. पुरानी पेंशन स्कीम की खास बात यह है कि इसमें कर्मचारियों की सैलरी से कोई भी पैसा नहीं कटता है. इसके अलावा नई पेंशन में 6 महीने बाद मिलने वाले डीए का भी प्रावधान नहीं है. इसके अलावा ओल्ड पेंशन में पेमेंट सरकार की ट्रेजरी के जरिए किए जाता है. वहीं, नई पेंशन में निश्चित पेंशन की कोई भी गारंटी नहीं होती है.