3 साल में सबकुछ खत्म! 1800 करोड़ की ये कंपनी 90 करोड़ में बिकी, रतन टाटा का भी लगा था पैसा

रेंट पर फ्लैट्स या घर की सर्विस देने वाले बेंगलुरू के स्टार्टअप नेस्टअवे (Nestaway) का ऑरम प्रॉपटेक (Aurum Proptech) ने उसके मूल्यांकन से 95 फीसदी कम पर अधिग्रहण कर लिया है।

 
3 साल में सबकुछ खत्म! 1800 करोड़ की ये कंपनी 90 करोड़ में बिकी, रतन टाटा का भी लगा था पैसा

 रेंट पर फ्लैट्स या घर की सर्विस देने वाले बेंगलुरू के स्टार्टअप नेस्टअवे (Nestaway) का ऑरम प्रॉपटेक (Aurum Proptech) ने उसके मूल्यांकन से 95 फीसदी कम पर अधिग्रहण कर लिया है।

2019 में कंपनी का मूल्यांकन 1800 करोड़ रुपये था लेकिन इसकी बिक्री 90 करोड़ में हुई है। केवल 3 साल के अंदर ही कंपनी का ग्राफ तेजी से नीचे गिरा। इसके पीछे कोविड-19 एक बड़ा कारण रहा. लोग तब अपने-अपने घरों को वापस लौटे और नेस्टअवे के बिजनेस को जबरदस्त चोट पहुंची।

इसका अधिग्रहण करने वाली ऑरम ने पिछले ही साल हेलो वर्ल्ड नामक एक स्टार्टअप का अधिग्रहण किया था। इस कंपनी को पहले नेस्टअवे ने खरीदा था फिर उससे ऑरम ने खरीदा। अब ऑरम ने नेस्टअवे को भी खरीद लिया है।

हेलो वर्ल्ड के संस्थापक जितेंद्र जगदेव और इस्माइल खान ही अब अधिग्रहित नेस्टअवे की कमान संभालेंगे। ऑरम अब नेस्टअवे में करीब 30 करोड़ रुपये का और निवेश करेगी। ऑरम ने एक बयान जारी कर इसकी सूचना दी है।


नेस्टअवे की नींव अमरेंद्र साहू, दीपक धार, स्मृति परिदा ने 2015 में डाली थी. इस कंपनी ने आखिरी फंडिंग 2019 में हासिल की थी। तब इसका वैल्यूएशन 22.5 करोड़ डॉलर था जो आज के हिसाब से 1854 करोड़ रुपये बनता है।

हालांकि, कोविड-19 महामारी के दौरान लोगों द्वारा वर्क फ्रॉम होम के चलते वापस घर लौटने से इनके बिजनेस पर कापी असर हुआ। कोविड-19 से पहले जहां इनकी वेबसाइट पर 50,000 प्रॉपर्टी थी और कंपनी साल में 100 करोड़ का रेवेन्यू भी जेनरेट कर चुकी थी। वहीं, महामारी के बाद प्रॉपर्टीज घटकर 18,000 रह गईं और रेवेन्यू 30 करोड़ तक लुढ़क गया।


नेस्टअवे को कई बड़े संस्थानों से फंडिंग मिली थी। इनमें सबसे चर्चित नामों में यूसी-आरएनटी और टाइगर ग्लोबल थी। यूसी-आरएनटी, रतन टाटा की आएरनटी असोसिएट और यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया का जॉइंट वेंचर है। वहीं, टाइगर ग्लोबल एक अमेरिकी इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट कंपनी है जिसका फंडिंग के क्षेत्र में बड़ा नाम है।