Biparjoy Cyclone: तुरंत हो जाइए अलर्ट, गुजरात में बारिश और तेज हवाओं का दौर शुरू, बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा 'बिपरजॉय'

Cyclone Biparjoy: चक्रवाती तूफान ‘बिपरजॉय’ के गुजरात की ओर बढ़ने के साथ ही तटीय जिले सौराष्ट्र और कच्छ में लाखों लोगों के लिए ये सप्ताह काफी भयानक होने वाला है। चक्रवात के पूरी तरह से पहुंचने में अभी देरी है, लेकिन इसने अपना असर दिखाना अभी से शुरू कर दिया है। इन क्षेत्रों में पेड़ों को उखाड़ने वाली तेज हवाओं की वजह से दो बच्चों सहित तीन लोगों की मौत हो गई।
 
Biparjoy Cyclone: तुरंत हो जाइए अलर्ट, गुजरात में बारिश और तेज हवाओं का दौर शुरू, बेहद गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा 'बिपरजॉय'

Cyclone Biparjoy: चक्रवाती तूफान ‘बिपरजॉय’ के गुजरात की ओर बढ़ने के साथ ही तटीय जिले सौराष्ट्र और कच्छ में लाखों लोगों के लिए ये सप्ताह काफी भयानक होने वाला है। चक्रवात के पूरी तरह से पहुंचने में अभी देरी है, लेकिन इसने अपना असर दिखाना अभी से शुरू कर दिया है। इन क्षेत्रों में पेड़ों को उखाड़ने वाली तेज हवाओं की वजह से दो बच्चों सहित तीन लोगों की मौत हो गई। Read More:- 'बिपरजॉय' ने बदला अपना रास्ता, गुजरात तट की ओर तेजी से बढ़ा साइक्लोन, 6 जिलों पर खतरा, IMD का अलर्ट जारी

भुज कस्बे में एक दीवार गिरने से दो चचेरे भाई-बहन (चार साल का लड़का और छह साल की लड़की) को अपनी जांन गंवानी पड़ी, जबकि राजकोट के जसदण तालुका में स्कूटर पर एक बड़े पेड़ के गिरने से पति के साथ पिछली सीट पर बैठी एक महिला की मौत हो गई।

आईएमडी ने 15 जून को कच्छ, देवभूमि द्वारका और जामनगर जिलों में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की आशंका जताई है। एक अधिकारी ने बताया कि आसन्न चक्रवात के मद्देनजर, एनडीआरएफ ने एहतियात के तौर पर मुंबई में दो अतिरिक्त दलों को तैनात किया है।

गुजरात के राहत आयुक्त आलोक पांडे ने अहमदाबाद में संवाददाताओं से कहा कि राज्य सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए लगातार काम कर रही है कि इस चक्रवात से कोई जनहानि न हो। पांडे ने बताया कि बचाव अभियान मंगलवार से दो चरणों में शुरू किया जाएगा और सबसे पहले समुद्र तट से पांच किलोमीटर तक की दूरी पर रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इसके बाद तट से पांच से 10 किलोमीटर की दूरी पर रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जाएगा और इस दौरान बच्चों, गर्भवती महिलाओं और बुजुर्गों को प्राथमिकता दी जाएगी।

चक्रवात ‘बिपरजॉय’ के गुजरात के तटीय क्षेत्र के पास कच्छ जिले में जखाऊ बंदरगार के निकट पहुंचने की संभावना के मद्देनजर मंगलवार को बचाव अभियान को और तेज किया जाएगा और सरकार तट से 10 किलोमीटर के इलाके में रह रहे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाएगी।

 कच्छ, पोरबंदर, देवभूमि द्वारका, जामनगर, जूनागढ़ और मोरबी तटीय जिलों के प्राधिकारियों ने तटरेखा के निकट रह रहे लोगों को किसी सुरक्षित जगह ले जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। उन्होंने बताया कि तट से 10 किलोमीटर के इलाके में रह रहे हजारों लोगों को मंगलवार से सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जाएगा।